रविवार, 21 जून 2015

संत पीपाजी महाराज

राजस्थान में गढ़ गागरौन एक सुप्रसिद्ध किला रहा है | ख्यातों के अनुसार इस स्थान पर पहले डोड राजपूतों का शासन था | बाद में गूंदळराव खीची (चौहान) ने जायल (नागौर) से जाकर पृथ्वीराज द्वितीय के शासनकाल में गागरौन क्षेत्र के डोडों के बारहों गढ़ों पर कब्जा कर लिया| इसी खीची शाखा में देवनसी हुए,जिन्होंने बीजळदेव डोड को परास्त कर फिर से इस क्षेत्र पर हक जमाया | डोड राजपूतों के नाम से पहले इसका नाम डोडरगढ़ था, पर देवनसी ने अपनी बहन गंगा के नाम से गढ़ बनाकर उसका नाम गढ़ गागरौन रखा | पीपाजी देवनसी खीची की 11वीं पीढ़ी में यहाँ के शासक हुए |
‘भक्तमाल’ के लेखक नाभादास इन्हें रामानंद के बारह शिष्यों में से एक मानते हैं , इस तरह वे कबीर के समकालीन ठहरते हैं | लोक मान्यताओं में इनका जन्म चैत्र पूर्णिमा विक्रमी 1380 और देहावसान चैत्र सुदी एकम विक्रमी 1441 मानते हैं | यहाँ यह उल्लेखनीय है कि स्वामी रामानंद के जहां अन्य शिष्य पिछड़े व दलित समुदाय से थे, वहीँ पीपाजी ही एकमात्र सवर्ण क्षत्रिय समुदाय से थे |
राव पीपा ने अपने राज्यकाल में कई युद्धों का सामना किया | टोडा-युद्ध इन्होंने अपने ससुर सोलंकी डूंगरसी की सहायतार्थ लड़ा था | फिरोज तुगलक़ के समय उसकी सेना ने मालवा जाते समय गढ़ गागरौन का घेरा भी डाला था, पर उसे सफलता नहीं मिली थी | पीपाजी के ये दोनों युद्ध उनकी वीर-वृति के सूचक हैं, पर अचानक एक घटना ने उन्हें सांसारिकता से विलग कर दिया |
लोकाख्यानों के अनुसार पीपाजी शिकार के शौक़ीन थे और अक्सर करने जाते थे | एक दिन उनके सामने से एक हरिणी निकली,जिस पर पीपाजी ने तलवार से वार किया | हरिणी के दो टुकड़े हो गये | गर्भवती हरिणी के साथ ही उसका बच्चा भी कट गया | बस वही उनके जीवन परिवर्तन का क्षण सिद्ध हुआ | वे करुणा के आलोक से जगमगा उठे | उन्होंने रक्तरंजित तलवार वहीँ फेंक दी और वैराग्यवृति धारण कर ली | राजपाट उन्हें बौने और व्यर्थ लगने लगे | वे फिर राजधानी लौटे ही नहीं, वहीँ कुटिया बनाकर रहने लगे और सुई-धागे से कपड़े सीने लगे | उनके अधिकाँश शिष्य क्षत्रिय ही थे, जो उनकी अहिंसावृति से प्रभावित हुए थे | वे भी सिलाई का काम करने लगे | इस तरह एक पीपावर्गीय समुदाय पैदा हुआ, जो राजस्थान,गुजरात , मालवा और देश के अन्य भागों में रहते हैं | दर्जी का धंधा करनेवाले इस समुदाय के सारे गौत्र राजपूत समुदाय के हैं |
उनकी भक्ति निर्गुण समुदाय की थी और करुणा उनके संदेशों का सार है –
जीव मार जौहर करै, खातां करै बखाण |
पीपा परतख देख ले, थाळी माँय मसाँण ||
पीपा पाप न कीजियै, अळगौ रहीजै आप |
करणी जासी आपरी, कुण बेटौ कुण बाप ||
संत पीपाजी की शिक्षाएं धर्म के उदार पक्ष से संबंधित हैं| सहजता का दर्शन उनकी शिक्षाओं का सार है –
अहंकारी पावै नहीं, कितनोई धरै समाध |
पीपा सहज पहूंचसी, साहिब रै घर साध ||
गढ़ गागरौन में पीपाजी का मंदिर, छतरी और बाग़ है | काशी में ‘पीपाकूप’, द्वारिका के पास आरमाड़ा में ‘पीपावट’, अमरोली (गुजरात) में ‘पीपाबाव’है | जोधपुर के जिस पीपल के नीचे पीपाजी ने तपस्या की थी वह स्थान आज सुप्रसिद्ध पीपाड़ कस्बा है | काळीसिंध और आहड नदियों के संगम पर एक पीपाजी का गुफामन्दिर भी स्थित है | चैत्र-पूर्णिमा पर सम्पूर्ण भारत में पीपाजी की जयंती मनाई जाती है |

1 टिप्पणी: